उपमन्युकृतं शिवस्तोत्राम्

जय शंकर पार्वतीपते मृड शम्भो शशिखण्डमण्डन।
मदनान्तक भक्तवत्सल प्रियकैलास दयासुधम्बुध्।।1।।

jay shankar parvatipate mrid shambho shashikhandmandan
madnantak bhaktvatsal priykaisas dayasudhmbudh

हे शंकर! संसार के कल्याण करने वाले शिव जी, हे पार्वती जगज्जननी के पति–पालक अर्थात् भगवती पार्वती इस संसार की माता हैं, और आप उनके पति हैं तो फिर संसार के पिता हे मृड–सुख देने वाले, हे शम्भो! हे शशिखण्डमण्डन! अर्थात् चन्द्रमा की कला से सुशोभित सिर वाले, हे मदनान्तक! काम को भस्म करने वाले, हे भत्तफवत्सल! हे प्रियकैलास! अर्थात् कैलासवास को पसन्द करने वाले, हे दयासुध ! दया के सागर, आपकी जय हो अर्थात् आप सर्वोत्कृष्ट हैं, आपको नमस्कार है। ;यहाँ भक्त का भगवान् के प्रति अपकृष्ट होना अर्थात् सि( है, अत: व्य नावृत्ति से नमस्कार अभिव्यत्तफ होता है।
he shankar sankar ke kalyan karne wale shiv ji, he parvati jagjanani ke apti palak arthat bhagwati aprvati is sanskar ki mata hai, or aap unke pati hai to fir sanskar ke pita hai. mrid sukh dene wale, he shambho he shashikhandmandan, arthat chandrama ki kala se sushobhit sir wale he madnantak kam ko bhasm karne wale he bhaktfavatsal he priykailas arthhat kaisasvas ko pasand karne wale he dayasdh daa ke sagar, aapki jay ho arthap aap sarvotkrisht hai, aapko manaskar hai. yaha bhakt ka bhagwan ke prati apkrisht hona arthat sir hai, atah vya navriti se namaskar abhivyakt hota hai.

सदुपायकथास्वपण्डितो हृदये दु:खशरेण खण्डित:।
शशिखण्डमण्डनं शरणं यामि शरण्यमीरम्।।2।।
हे शम्भो! मेरा हृदय दु:ख रूपीबाण से पीडित है, और मैं इस दु:ख को दूर करने वाले किसी उत्तम उपाय को भी नहीं जानता हूँ अतएव चन्द्रकला व शिखण्ड मयूरपिच्छ का आभूषण बनाने वाले, शरणागत के रक्षक परमेश्वर आपकी शरण में हूँ। अर्थात् आप ही मुझे इस भयंकर संसार के दु:ख से दूर करें।

dadupayakthasvpandito hridaye dkhshren khandtah
shashikhandmandanan sharanan yami sharnyamiram
he shambo era hriday dukh rupi ban se pidit hai aur mai is dukh ko dur karne wale kisi uttam upay ko bhi nahi janta hu atev chandrakala v shikhand mayurpicch ka abhushan banane wale, sharanagat ke rakshan parmeshvar aapki sharan me hun. arthat aap hi mukhe is bhayankar sanskar ke dukh se dur kare

महत: परित: प्रसर्पतस्तमसो दर्शनभेदिनो भिदे।
दिननाथ इव स्वतेजसा हृदयव्योम्नि मनागुदेहि न:।।3।।
हे शम्भो हमारे हृदय आकाश में, आप सूर्य की तरह अपने तेज से चारों ओर घिरे हुए, ज्ञानदृष्टि को रोकने वाले, इस अज्ञानान्ध्कार को दूर करने के लिए प्रकट हो जाओ। ;सूर्य जिस प्रकार अपने तेज–प्रकाश से रात्रिा जन्य अन्ध्कार को दूर कर देता है, उसी प्रकार आप भी यदि हमारे हृदय में प्रकट रहेंगे अर्थात् हमारे यान में रहेंगे तो जरूर हमारा भी कुछ न कुछ अज्ञानान्ध्कार दूर हो जायेगा।
mahatah paritah prasarpatstmaso darshnbhedino bhide
dinanath iv svtejasa hridayvyomni managudehi nah
he shambho hamare hriday aakash me, aap surya ki tarah ape tej se charon or se ghire hue, gyanndrishti ko rokne wale, is agyaanandhkaar ko dur karke ke lie prakat ho jao. surya jis prakar apne tej prakash se ratri janya andhkar ko dur kar deta hai, usi prakar aap bhi yadi hamare hriday men prakat rahenge arthat hamare yan me rahenge to hamara bhi kuch n kuch agyaanaandhkaar dur ho jayega.

न वयं तव चर्मचक्षुषा पदवीमप्युपवीक्षितुं क्षमा:।
कृपयाभयदेन चक्षुषा सकलेनेश विलोकयाशु न:।।4।।
हे ईश! हम इन चर्मचक्षु अर्थात् स्थूल नेत्रों से ;तुम्हारे धाम तक पहुँचने वाले रास्ते को भी नहीं देख सकते हैं, अत: कृपा करके आप प्राणियों को अभय प्रदान करने वाले अपनी दयादृष्टि से हमें अच्छी तरह शीघ्र देखें। तात्पर्य यह है कि जब हम अपनी स्थूल दृष्टि से आपके दर्शन कराने वाले मार्ग तक को नहीं देख सकते, तब साक्षात् दर्शन कैसे कर सकते हैं, अत: हे भगवन्! आप हमें अपनी कृपाभरी पूरी दृष्टि से इस प्रकार देखें कि जिससे हमारे में आपके दर्शन करने की क्षमता आ जाय।
n vayam tav charmchakshusha padvimpypavikshitun kshmaah
kripyabhayaden chakshusha sakalenesh vilokyaashu nah
he eish ham in charm chaksh arthat sthul netron se tumhare dham tak pahunchne wale raste ko bhi nahi dekh sakte hai. atah kripa karke aap praniyo ko abhaya pradan karne wale apni dayadrishti se hamen acchi tarah shighra dekhe. tatprya yah hai ki jab ham apni sthul drishti se aapke darshhan karane wale amrg tak ko nahi dekh sakte, tab sakshat darshan kaise kar sakte hai. atah he bhagwan aap hamen apni kripa bhari pri drishti se is prakar dekhen ki jisse hamare me aapke darshan karne ki kshmta aa jay.


त्वदनुस्मृतिरेव पावनी स्तुतियुत्तफा न हि वत्तफुमीश सा।
मध्ुरं हि पय: स्वभावतो ननु कीक् सितशर्करान्वितम्।।5।।
हे ईश! आपका स्मरण ही परम पवित्रा है, तब स्तुतिरूप में या प्रशंसात्मक व्याख्यान में उसको क्या कहा जा सकता है? क्योंकि दूध् स्वभाव से ही मीठा है यदि उसमें चीनी डाल दी जाय तो फिर कहना ही क्या? तात्पर्य यह है कि आपके स्मरण कीर्तन व भजन से ही जब इतना आनन्द मिलता है, तो फिर प्रशंसात्मक पद्यों के द्वारा स्तुति के द्वारा या कविता के रूप में कहा गया, आपके गुणों का गान कितना आनन्द प्रदान करेगा, यह कहा नहीं जा सकता है। स्वभावत: मधुर दूध् में चीनी डाल देने से, जिस प्रकार उसका माधुर्य बढ़ जाता है इसी प्रकार अच्छे शब्दों में लिखे गए भगवन नाम भी अधिक आनन्द प्रदान नहीं करता है। अथवा आपके स्वरूप का प्रतिपादन तो वाणी का विषय नहीं है, यदि वह किसी भी वाणी का विषय होता तो फिर उस से कितना आनन्द आता, यह भी इस पद्य का रहस्य है।
tvadanusmritirev pavani stutiyuktfa na hi vaktfumish sa
maduram hi payah svbhavato nanu kik sitsharkaranvitam
he eish aapka smran hi param pavitra hai, tab stutirup me ya prashsatmak vyakhyam me usko kya kaha ja sakta hai kyonki dudh svbhav se hi mitha hai yadi usen chini dal di jay to fir kahna hi kya
tatparya yah hai ki aapke smran kiran v bhajan se hi jab itna aanand milta hai, to fir prashnsatmak padyo ke dvara stuti ke dvara ya kavita ke rup me kaha gaya, aapke gunon ka gan kitna aanand pradan karge, yah kaha ahi ja sakta hai.
svabhavatah madhr dudh me chini dal dene se jis prakar uska madhurya badh jata hai isi prakar acche shabdon me likhe gaye bhagwan nam bhi adhik anand pradan nahi karta hai. athva aapke sarup ka pratipadan to vani ka vishay nahi hai, yadi vah kisi bhi vani ka vishay hota to fir us se kitna aanand aata. yah bhi is padya ka rahasya hai.


सविषोप्यमृतायते भवाछवमुण्डाभरणोपि पावन:।
भव एव भवान्तक: सतां समदृखिवषमेक्षणोपि सन्।।6।।
हे शम्भो! आप विषसहित होते हुए भी अमृत के समान हैं, शवों के मुण्डों से सुशोभित होते हुए भी पवित्रा हैं। स्वयं ;जगत् के उत्पादकद्ध भव होते हुए भी, सज्जनों के या सन्तों के ;सांसारिक बन्ध्नद्ध को दूर करने वाले हैं। विषमनेत्रा अर्थात् तीन नेत्रा ;सूर्य, अग्नि, चन्द्र नेत्राद्ध वाले होते हुए भी समदृष्टि अर्थात् पक्षपात रहित हैं।
savishopyamritayate bhavaachvamundabharanopi pavanah
bhav ev bhavantakah satan samdrishkhivashmekshnopi san
he shambho aap vishsahit hote hue bhi amrit ke saman hai, shavon ke mundo se sushobhit hote hue bhi pavitra hai. svyam jagat ke utpadak bha hote hue bhi sajjanon ke ya santo ke sansarik bandhn ko dur karne wale hai. vishmnetra arthat tin terra surya, agni chandra netra wale hote hue bhi samdrishtii arthat pakshpat rahit hai.


अपि शूलध्रो निरामयो दृढवैराग्यरतोपि रागवान्।
अपि भैक्ष्यचरो महेररितं चित्रामिदं हि ते प्रभो।।7।।
हे प्रभो! आप शूलध्र–त्रिाशूल को धरण करने वाले, शूल–रोग विशेष से युत्तफद्ध होते हुए भी, निरामय–नीरोग हो अर्थात् आप संसार के जन्म जरा मरणादि रोगों से अथवा आयात्मिक, आध्दिैविक और आध्भिौतिकादि द्वन्दों से दूर हैं। दृढवैराग्य से युत्तफ होते हुए भी रागवाले हो, अर्थात् भत्तफों के अनु नात्मक राग से युत्तफ हो। इसीलिए जल्दी प्रस हो जाते हो अत: सरस हो, अन्यथा कठोर दिलवाले का तो जल्दी प्रस होना मुशिकल है। अथवा ‘राग’ यह भी आनन्द की ही अन्यतम मात्रा है जिससे आप भक्तो को संतुष्ट करते हैं। भगवान् शंकर को आशुतोष कहने का कदाचिद् यही रहस्य हो। स्वयं भिक्षावृत्ति वाले होते हुए भी महान् ऐश्वर्य सम्पन आप है, आपका यह विरोधभासात्मकद्ध जो चरित है, वह बड़ा ही आश्चर्यजनक है।
api shuldhro niramyo dridhvairagyaratopi ragvan
api bhaikshyacharo maheraritan chitramidadan hi te prabho
he prabho aap shuldhra trishul ko dharam karne wale shul rog vishesh se yukt hote hue bhi niramay nirog ho arthat aap sanskar ke janm jara maranadi rogon se atva aayatmik aadhydaivik aur aadhyabhautikadi dvandon se dur hai. dridhvairagya se yukt hote hue bhi ragwale ho arthat bhakto ke anunatmak rag se yukt ho. islie jaldi prasann ho jate ho atah saras ho, anyatha karhot dilwale ka to jald prasand hona musklil hai. athva rab yah bhi anand ki hi anyantam matra hai jisse aa bhakton ko santusht karte hai . bhagwan shanakr ko aashutosh kahne ka kadachit yahi rahasya ho. svyam bhikshavriti wale hote hue bhii mahan aishvarya sapan aap hai , aapka yah virodhabhashatmak jo charitra hai wah baha hi ashcharyajanak hai.

वितरत्यभिवाछितं दृशा परिदृ: किल कल्पपादप:।
हृदये स्मृत एव ध्ीमते नमतेभीपफलप्रदो भवान्।।8।।
कल्पवृक्ष तो आँखों से देखे जाने पर ही किसी मनोवाछित वस्तु को प्रदान करता है, परन्तु आप तो केवल हृदय में स्मरण से ही नमस्कार करने वाले सद्विचार सद्जन के लिए अभीष्ट फल प्रदान करते हैं।
vitratyabhivachitam drisha paridah kil kalppadapah
hridye smrit ev drimate namatebhipfalprado bhavan
kalpvriksh to aankhon se dekhe jane par bhi kisi manovanchit vastu ko pradan karta hai, pranatu aap tp keval hriday men smran se hi namaskar karne wale dadvichar sadjan ke lie abhisht fal pradan karte hai.

सहसैव भुजपाश्वान् विनिगृाति न यावदन्तक:।
अभयं कुरु तावदाशु मे गतजीवस्य पुन: किमौषध्ै:।।9।।
भुज के समान भयंकर पाशवाला यमराज, जब तक अकस्मात् मुझे ग्रहण नहीं कर लेता है, अर्थात् मेरे प्राणों का हरण नहीं कर लेता, तब तक जल्दी ही मेरे लिए आप अभयदान दें, अर्थात् मोक्ष प्रदान करें। नहीं तो फिर जीवन समाप्त होने के बाद तो, औषधि् से भी कुछ नहीं होने वाला है|
sahsaiv bhujpasvaan vinigrati n yavadantakah
abhyam kuru tavdashu me gatajivasya punah kimaushdhah
bhuj ke saman bhayankar pashvala yamraj, jab tak akasmat ujhe grahan nahi karta hai, arthat mere pranon ka harran nahi karta, tab tak jaldi hi mere lie aap abhaydan de, arthat moksh pradan kare,, nahi to fir jivan smapt hone ke bad to aushdhi se bhi kuch nahi hone wala he.

सविषैरिव भोगपगैखवषयैरेभिरलं परिक्षतम्।
अमृतैरिव संभ्रमेण मामभिषिाशु दयावलोकनै:।।10।।
विषधरी भारी साँपों के समान इन सांसारिक विषयों ने मुझे भयभीत कर रखा है, अत: इनसे मैं परेशान हूँ। कृपया अमृत के समान जीवनदायक अथवा मुक्तिसाधक अपने कृपाकटाक्षों के अवलोकन से मुझे बचाइए
savshairiv bhogpagaikhvashyairebhiralam parikshatam
amritairiv sambhramen mambhishi;shu dayavalokanaih
vishbhari bhari sanpn k esaman in sansarik vishyo ne mujhe bhayabhit kar rakha hai, atah inse mai pareshan hun. kripya amrit ke saman jivandyaak athva uktisadhak apne kripakatakshon ke avlokan se mujhe bachaye.

मुनयो बहवोद्य ध्न्यतां गमिता: स्वाभिमतार्थदखशन:।
करुणाकर येन तेन मामवसं ननु पश्य चक्षुषा।।11।।
हे करुणानिधन! अपने अपने अभी अर्थ प्रयोजनद्ध को देखने वाले बहुत से मुनियों को अपने अपने जिस कृपावलोकन दया दृष्टि के द्वारा ध्न्यता पूर्ण बनाया, फिर आज अकस्मात नाश को प्राप्त हुए मुझको भी, उसी दृष्टि से देखिये
प्रणमाम्यथ यामि चापरं शरणं कं कृपणाभयप्रदम्।
विरहीव विभो प्रियामयं परिपश्यामि भवन्मयं जगत्।।12।।
हे प्रभो! अब मैं आपको प्रणाम करता हूँ, और आपकी शरण लेता हूँ। दीनों को अभयदान देने वाले आपको छोड़कर और अन्यत्र किसकी शरण में मैं जाऊँ? कोई विरही जिस प्रकार सारे संसार को प्रियामय देखता है, हे प्रभु ! उसी प्रकार मैं भी आपके विरह मय इस समस्त चराचर जगत् को आपमय अर्थात् शिवमय देखता हूँ। जैसे कोई रागी अपनी प्रिया में अत्यन्त आसक्त होता है, अन्य किसी पदार्थ में उसी रुचि नहीं होती है, कहने का तात्पर्य यह है कि संसार में उसके लिए प्रिया से उत्कृष्ट वस्तु फिर कोई नहीं है, दर्शन की भाषा में हम जिसे ‘प्रियाद्वैत’ भी कह सकते हैं इसी प्रकार शिव भक्त भी जब शिव को ही परमप्रेमास्पद मानता है, एक क्षण भी उससे अपने को विमुक्त नहीं होना चाहता है, तो उसके लिए भी फिर यह संसार तो नहीं के समान है, अर्थात् सर्वत्रा ‘शिवाद्वैत’ भावना हीं है।
बहवो भवतानुकम्पिता: किमितीशान न मानकम्पसे।
दध्ता किमु मन्दराचलं परमाणु: कमठेन दुध्‍र्र:।।13।।
हे शम्भो ! आपने बहुतों के ऊपर अनुकम्पा की है, फिर क्यों आप मेरे ऊपर अनुकम्पा नहीं करते हैं? जो कर्मठ–कच्छुवा अपनी पीठ पर इतने बडे़ मन्दराचल को धरण कर सकता है, तो फिर वह एक परमाणु को धरण नहीं कर सकता क्या? अर्थात् जिस प्रकार बहुत बडे़ मन्दराचल को धरण करने वाले कर्मठ के लिए परमाणु धरण करना कोई कठिन नहीं है, इसी प्रकार इतने बडे़ संसार का उद्धार करने वाले आपके लिए भी, परमाणु तुल्य मेरा उद्धार करना भी आसान है।
अशुच यदि मानुमन्यसे किमिदं मूखन कपालदाम ते।
उत शाठ्यमसाध्ुसनिं विषलक्ष्मासि न क द्विजिध्ृक्।।14।।
भक्त अपने प्रभु को इस पद्य में उलाहना देकर कह रहा है कि – हे प्रभु ! यदि आप मनुष्य होने के नाते मुझे अपवित्र समझते हैं, तो फिर आपने अपने मस्तक में नरकपालों की यह अपवित्र माला कैसे पहन ली, क्या यह अपवित्र नहीं है? अथवा दुसरो के साथ रहने से मुझे शठ समझकर मेरा उद्धार नहीं कर रहे हैं, मेरी उपेक्षा कर रहे हैं, तो फिर आप साँप को धरण करके अथवा चुगलखोर को साथ में रखकर ‘शठ’ अथवा अलक्षण या कुलक्षण वाले नहीं है क्या?
दृशं विदधमि क करोम्यनुतिशमि कथं भयाकुल:।
नु तिश्सि रक्ष रक्ष मामयि शम्भो शरणागतोस्मि ते।।15।।
हे शम्भो ! मैं अब किधर देखूँ , किधर ध्यान लगाउ, क्या करूँ, इतना भयभीत मैं कैसे यहां रहूँ? हे प्रभो! आप कहाँ हैं? मेरी रक्षा करें। मैं अब आपकी हीं शरण में हूँ।
विलुठाम्यवनौ किमाकुल: किमुरो हन्मि शिरश्छिनि वा।
किमु रोदिमि रारटीमि क कृपणं मां न यदीक्षसे प्रभो।।16।।

Post a Comment

0 Comments